शिवयोगी के लिए करवा चौथ का महत्व

By |2016-11-25T10:15:36+00:00October 19th, 2016|Categories: Hindi|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

मैं हमेशा से भगवान शिव और माँ पार्वती के चित्रों को देख कर सोचता था की क्यूँ महादेव एक भिक्षु की भाँति रहते हैं और माँ पार्वती गहनो और बेहद्द सुंदर वस्त्रों से सुसज्जित| किंतु यह विचार आने बंद हुए जब मेरा स्वयं का विवाह हुआ क्योंकि हर नारी की तरह मेरी भागवन भी खरीददारी करती, [...]

DIWALI MESSAGE 2016: What defines a festival?

By |2016-11-25T10:12:22+00:00October 14th, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

The concept that some lives matters more then others is the root cause of all evil in the world. It's this superiority complex that is drilled into children by their parents or teachers or community or religion. Telling them that as they belong to a certain thought that somehow they are superior to others. This sense [...]

हमारी व्यवस्था में सिद्धों की व्यवस्था

By |2016-11-25T10:02:08+00:00September 30th, 2016|Categories: Hindi|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

सभी महान सभ्यताएँ, सभी महान महाराज, सभी महान साम्राज्य, सभी महान पुरुष एक समानता रखते थी - इन सभी के पास संत रुपी मार्गदर्शक थे| इन सभी के लिए संतों का महत्व था एक आध्यात्मिक सलहाकार के तौर पर, जो की इन सभी को नैतिक मूल्यों में बांधे रखने का कार्य करते थे| यह सभी को [...]

पितृ तर्पण के लिए पहले माता पिता का सम्मान करना सीखें

By |2016-11-25T10:08:11+00:00September 28th, 2016|Categories: Hindi|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

  मैं अपने पिता से बहुत प्रेम करता हूँ| मुझे उनके साथ रहने में बहुत आनंद आता है | उनका एक अंश हमेशा मेरे साथ रहता है किंतु एक अंश मेरे भीतर रहता है, सदा ख़याल रखता है| उनका जो अंश मेरे साथ रहता है वह मेरा बहुत ख़याल रखता है, मेरा मार्गदर्शन करता है और [...]

ADVANCE PRATI PRASAV, BHOPAL – WISDOM CAPSULE

By |2016-11-25T09:59:34+00:00September 21st, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

"For ideal outcome, create ideal environment. The kind of thoughts, the kind of body, the kind of rules you have set for yourself will decide what will become of you." "To paint everyone with the same brush is to be racist. To say that all good men have an ulterior motive is to be racist. Every [...]

LET THE BEST START FROM ME, LET ME BE THE ACHIEVER OF THE UNACHIEVED

By |2016-11-25T09:26:33+00:00September 19th, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

  "कभी कोई मुकाम ऐसा लगे की यह तो किसी ने पार नहीं किया या कर नहीं पाया तो यह मत, तो यह मत कहना के क्योंकि किसी और ने इसे सिद्ध नहीं किया तो मैं भी नहीं कर सकता| ऐसे में कहना - हे माँ प्रकृति  अगर तुझ में पहल होनी है तो मैं बनु [...]

गुणात्मक जीवन जीने से मिलेगा मोक्ष न की मात्रात्मक जीवन जीने से

By |2016-11-25T09:20:41+00:00September 19th, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

नमः शिवाय! सोमवार को भोपाल के पीपल्स मॉल में शिवयोग एडवांस प्रतिप्रसव शिविर के तीसरे दिन का अनुष्ठान करने पधारे आचार्य ईशान शिवानंदजी ने अपने प्रवचन में गुणात्मक जीवन जीने पर ज़ोर दिया| यह उन्होंने इन शब्दों में ज़ाहिर किया: "नीरस जीवन तो हर कोई जी रहा है| ज़रूरतों की पूर्ति के पीछे तो सभी भाग [...]

WISECRACKS FROM WISE JACK

By |2016-11-25T09:18:42+00:00September 18th, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

"Cutting Prarabdh in Kaliyuga can be an arduous task. If you go as per what is written in scriptures you will have to go through an uphill journey from Yam Niyam to all sorts of asceticisms. It is like reinventing the wheel. So that is where the Guru comes in. He makes the work easier for [...]

CHANGE ACTION TO CHANGE RESULT

By |2016-11-26T07:13:43+00:00September 18th, 2016|Categories: Uncategorized|Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , |

        "Change the process to change the outcome. Mango will give birth to mango, not apple. Like tree, like seed."