A WORLD OF ORPHANS

2016-11-25T09:44:18+00:00November 14th, 2016|Blog|

As India celebrates Children's Day, as all great men get their pictures clicked with someone's kid, my question is whose kid is it anyway? When I was but a child, my father had ten German Shepard dogs. He had meticulously trained each one. They in no way had consciousness of dogs, as my father would communicate [...]

या देवी सार्वभुतेषु मातृरूपेण संस्थिता

2016-11-25T09:48:09+00:00November 5th, 2016|Uncategorized|

जब तक मेरी स्वयं की संतान नही हुई, मैं कभी अपनी माँ की भावनाओं को सही से समझ न पाया| मेरे आदर्श सदा से पुरुष योद्धा रहे जो की मैदान-ए-जंग में हट्टे-कट्टे और अ आक्रामक रहे| तब के समय में मैं प्रकृति की सूक्ष्मता को ग्रहण करने में विफल रहा| मैं हमेशा पेड़ को मोटे तने [...]

MY BEST FRIEND

2016-11-25T09:55:12+00:00November 2nd, 2016|Blog|

Many years back when I was studying Shiv Yog medicine under Baba ji, a very interesting incident occurred. Why I say the incident was important because it changed my whole world view. As I sat there with my huge pestle, grinding away herbs, a man was brought to Baba ji by his wife, just like a [...]

शिवयोगी के लिए करवा चौथ का महत्व

2016-11-25T10:15:36+00:00October 19th, 2016|Hindi|

मैं हमेशा से भगवान शिव और माँ पार्वती के चित्रों को देख कर सोचता था की क्यूँ महादेव एक भिक्षु की भाँति रहते हैं और माँ पार्वती गहनो और बेहद्द सुंदर वस्त्रों से सुसज्जित| किंतु यह विचार आने बंद हुए जब मेरा स्वयं का विवाह हुआ क्योंकि हर नारी की तरह मेरी भागवन भी खरीददारी करती, [...]

DIWALI MESSAGE 2016: What defines a festival?

2016-11-25T10:12:22+00:00October 14th, 2016|Uncategorized|

The concept that some lives matters more then others is the root cause of all evil in the world. It's this superiority complex that is drilled into children by their parents or teachers or community or religion. Telling them that as they belong to a certain thought that somehow they are superior to others. This sense [...]

हमारी व्यवस्था में सिद्धों की व्यवस्था

2016-11-25T10:02:08+00:00September 30th, 2016|Hindi|

सभी महान सभ्यताएँ, सभी महान महाराज, सभी महान साम्राज्य, सभी महान पुरुष एक समानता रखते थी - इन सभी के पास संत रुपी मार्गदर्शक थे| इन सभी के लिए संतों का महत्व था एक आध्यात्मिक सलहाकार के तौर पर, जो की इन सभी को नैतिक मूल्यों में बांधे रखने का कार्य करते थे| यह सभी को [...]

SAINTS IN THE SYSTEM

2016-11-25T10:08:43+00:00September 30th, 2016|Blog|

All great civilizations, all great Kings, all great empires and all great men had great saints to guide them. Saints would be spiritual advisers and ensured that the moral compasses were always working in men of higher power. It was a common understanding that learning could only teach what was right and hence must be complemented [...]

पितृ तर्पण के लिए पहले माता पिता का सम्मान करना सीखें

2016-11-25T10:08:11+00:00September 28th, 2016|Hindi|

  मैं अपने पिता से बहुत प्रेम करता हूँ| मुझे उनके साथ रहने में बहुत आनंद आता है | उनका एक अंश हमेशा मेरे साथ रहता है किंतु एक अंश मेरे भीतर रहता है, सदा ख़याल रखता है| उनका जो अंश मेरे साथ रहता है वह मेरा बहुत ख़याल रखता है, मेरा मार्गदर्शन करता है और [...]

LET THE BEST START FROM ME, LET ME BE THE ACHIEVER OF THE UNACHIEVED

2016-11-25T09:26:33+00:00September 19th, 2016|Uncategorized|

  "कभी कोई मुकाम ऐसा लगे की यह तो किसी ने पार नहीं किया या कर नहीं पाया तो यह मत, तो यह मत कहना के क्योंकि किसी और ने इसे सिद्ध नहीं किया तो मैं भी नहीं कर सकता| ऐसे में कहना - हे माँ प्रकृति  अगर तुझ में पहल होनी है तो मैं बनु [...]